नाखून

आज 4 जून शनिवार का दिन है ,आप बचपन से सुनते आए होंगे कि मंगलवार ,गुरुवार और शनिवार को नाखून और बाल नहीं काटना चाहिए सेविंग नहीं करवाना चाहिए इससे दोष होता है ।इस पर आप के मानस पटल में यह सवाल उठता होगा कि आखिर क्यों ?क्यों नहीं काटना चाहिए इन दिनों नाखून और बाल? आखिर क्यों नहीं कराना चाहिए सेविंग…


तो आज के अपने लेखन में मैं आप के इसी कौतूहल का जवाब देने जा रही हूं-

भारत एक धर्म प्रधान देश है यहां के लोग चाहे जितने भी समय के साथ-साथ आधुनिक क्यों न हो जाएं लेकिन उनका आस्था और विश्वास धर्म से अवश्य ही जुड़ा रहेगा। धर्म के आधार पर नियम भी बनाए गए हैं और जहां तक संभव हो तथा हमारा आस्था और विश्वास हो हम उस नियम के अनुसार ही अपनी दिनचर्या को व्यतीत करते हैं।

हमारे यहां सप्ताह भर के प्रत्येक दिन का अलग अलग महत्व है। जैसे-


मंलवार, गुरुवार और शनिवार के दिन नाखून तथा बाल काटने और दाढ़ी बनवाने के लिए हमारे बड़े बुजुर्ग मना करते थे और आज भी करते हैं । क्योंकि इन दिनों नाखून बाल न काटने दाढ़ी ना बनवाने का सिर्फ़ धार्मिक कारण या किंबदंती ही नहीं है वरन वैज्ञानिक कारण भी है ।

विज्ञान की मानें तो मनुष्य की उंगलियों में नाखूनों के हिस्से का भाग बहुत नाजुक होता है नाखून इस नाजुक हिस्से की सुरक्षा करते है। यही चीज बालों के साथ भी लागू होता है बाल भी हमारी त्वचा से जुड़े होते हैं।
वैज्ञानिकों के अनुसार मंगलवार, शनिवार और गुरुवार के दिन ब्रह्मांड से कई तरह की ऊर्जा पृथ्वी पर आती है. ऐसे में अगर यह ऊर्जा इंसान के शरीर के नाज़ुक हिस्सों
पर पड़ेंगी तो इसके कई असंतोषजनक परिणाम देखने को मिल सकते हैं, इसलिए विज्ञान भी गुरुवार, मंगलवार और शनिवार को नाखून और बाल ना काटने तथा दाढ़ी न बनवाने की सलाह देता है।

यह तो हुई विज्ञान की बात किंतु ,विज्ञान के साथ-साथ धर्म भी मंगलवार ,गुरुवार, और शनिवार के दिन नाखून तथा बाल काटने और दाढ़ी बनवाने को मना करता है।

गुरुवार

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरुवार का दिन-देवताओं के गुरु बृहस्पति का दिन होता है। ऐसा माना जाता है कि गुरुवार के दिन नाखून तथा बाल काटने से दाढ़ी बनवाने से गुरु ग्रह कमजोर होता है, और ऐसे व्यक्ति के जीवन में सुख-शांति की कमी होने लगती है।इसके अलावा बृहस्पति को बुद्धि का स्वामी भी माना गया है । तो ऐसे में यदि बृहस्पतिवार के दिन नाखून या बाल काटे जाएं तो इंसान की बुद्धि भी कमजोर होती है, उसे धन और धान्य की हानि होती है तथा जीवन में अनेकानेक प्रकार के मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है।

मंगलवार

इसके अतिरिक्त मंगलवार को मंगल करनी सब दुख हरणी मंगल देवता का दिन माना जाता है । मंगल का संबंध व्यक्ति के रक्त से माना जाता है, ऐसे में यदि हम मंगलवार को नाखून तथा बाल काटते हैं पुरुष वर्ग दाढ़ी बनवाते हैं तो हमारा आत्मविश्वास कमजोर पड़ता है। और यदि हमारा आत्मविश्वास ही कमजोर पड़ जाए तो हम अपने जीवन में किसी भी कार्य को सफलतापूर्वक करने में सक्षम नहीं होंगे। क्योंकि आत्मविश्वास ही वह मंत्र है जो हमारे अंदर किसी भी कार्य को करने का जज़्बा जगाता है जिस व्यक्ति के अंदर का आत्मविश्वास मर गया है ,वह किसी भी कार्य को संपन्न नहीं कर सकता।

शनिवार

शनिवार का दिन शनि देव को समर्पित किया जाता है. शनिवार के दिन नाखून तथा बाल काटने और दाढ़ी बनवाने से शनि देव नाराज होते है। और धर्म के अनुसार शनि देव जिससे रूष्ट हो गए उसका जीवन तबाह हो जाता है , उसके जीवन में भूचाल आ जाता है।शनि देव उसके जीवन में उथल-पुथल मचा देते हैं।शनिवार के दिन नाखून काटने वाले व्यक्ति की आयु भी कम होने लगती है साथ ही ऐसे व्यक्तियों को आर्थिक संकटों का सामना भी करना पड़ सकता है।

साधना शाही वाराणसी

Also Read – 3 जून को विश्व साइकिल दिवस के रूप में मनाया जाता है ,अतः आप सभी को विश्व साइकिल दिवस की हार्दिक बधाई।

By Sadhana Shahi

A teacher by profession and a hindi poet by heart! Passionate about teaching and expressing through pen and words.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *