गोकुल में जन्मे जदुराई,
और बाज रही घर-घर बधाई।

मथुरा है धन्य हुआ, कारागार धन्य हुआ
धन्य हुए प्रहरी भाई
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई ,
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल है धन्य हुआ, वृंदावन धन्य हुआ
धन्य हुईं सब गाईं
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई,
और बाज रही घर-घर बधाई।

यमुना है धन्य हुईं,कालिया है धन्य हुआ
धन्य हुए नाग भाई
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई,
और बाज रही घर-घर बधाई।

यशोदा हैं धन्य हुईं, नंद बाबा धन्य हुए
धन्य हुईं गोप माई
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई ,
और बाज रही घर-घर बधाई।

मक्खन है धन्य हुआ, मिश्री है धन्य हुई
धन्य हुईं धरती माई
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई,
और बाज रही घर-घर बधाई।

मोर पंख धन्य हुआ, वैजयंती धन्य हुई
धन्य हुआ पीपल भाई
और बाज रही घर-घर बधाई।

गोकुल में जन्मे जदुराई ,
और बाज रही घर-घर बधाई।

साधना शाही वाराणसी

By Sadhana Shahi

A teacher by profession and a hindi poet by heart! Passionate about teaching and expressing through pen and words.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *