एनडीए

बिहार में जातीय जनगणना को लेकर राजनिति के समीकरण में अब गर्मी बढ़ती जा रही है। इस मामले में एनडीए (NDA) के दो पार्टी बीजेपी और जेडीयू में खींचतान साफ नजर आ रहा है। जेडीयू जातीय जनगणना को लेकर अपनी विपक्षी पार्टी आरजेडी के विचार से सहमति रखता है। वहीं बीजेपी ने जातीय जनगणना को लेकर अपना स्टैंड अलग रखा है।

दिल्ली में नीतीश ने साफ किया अपना फैसला

दिल्ली में 26 सितंबर को नक्सलवाद को लेकर हुए बैठक के बाद नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर अपना स्टैंड क्लीयर किया था। सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि जातीय जनगणना करवाना जरुरी है। इससे राज्य में विकास करने में फायदा होगा। सीएम ने आगे कहा कि आजादी से पहले एक बार जातीय जनगणना हुई थी। उसके बाद आज तक नहीं हुई है। जातीय जनगणना के बाद इस बात का फैसला हो सकेगा कि किन लोगों को मदद की जरुरत है या फिर यूं कह सकते हैं कि इससे कौन आगे है और कौन पीछे है इस बात की असल जानकारी मिल पाएगी। सीएम ने इस मामले में सभी दलों के साथ बैठक की भी बात कहीं थी।

सीएम नीतीश कुमार के इस बयान के बाद ये तो साफ हो गया है कि सीएम जातीय जनगणना को लेकर गंभीर है। इसके बाद ये भी साफ हो गया कि बीजेपी और जेडीयू इस मुद्दे पर अलग- अलग रास्तों पर खड़ी है।

सुशील मोदी ने जातीय जनगणना से किया इंकार

बीजेपी सासंद सुशील मोदी ने कहा कि तकनीकी और व्यवहारिक तौर पर केंद्र सरकार द्वारा जातीय जनगणना करवाना संभव नहीं है।हालांकि सुशील मोदी ने ये साफ किया कि अगर राज्य चाहे तो वो जातीय जनगणना करवा सकती है। सुशील कुमार मोदी ने स्पष्ट करते हुए कहा कि जातीय जनगणना का मामला केवल एक कॉलम जोड़ने का नहीं है. इस बार इलेक्ट्रॉनिक टैब के जरिए गणना होनी है. गणना की प्रक्रिया अमूमन 4 साल पहले शुरू हो जाती है जिनमें पूछे जाने वाले प्रश्न,उनका 16 भाषाओं में अनुवाद, टाइम टेबल व मैन्युअल आदि का काम पूरा किया जा चुका है. अंतिम समय में इसमें किसी प्रकार का बदलाव संभव नहीं है. कर्नाटक सरकार की उदाहरम देते हुए मोदी ने कहा कि कर्नाटक ने 2015  में जातीय जनगणना करवाई थी लेकिन राज्य जाति के आकड़े को लेकर अबतक स्पष्ट जानकारी नहीं दे पाई है।

  • एनडीए (NDA) में सियासी खींचतान
  • सुशील मोदी ने जातीय जनगणना से किया इंकार

Also Read – दूसरे चरण के पंचायत चुनाव को लेकर प्रचार अभियान खत्म,

By Nidhi Savya

Talented and immensely creative journalist with a commitment to high-quality research and writing.  Dedication to sound investigative research methods and a strong desire to know the truth of the matter. Currently walking on the path of gaining experience in the field of journalism. Breaking News Reporter- Working in Kashish News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *