Tag: माटी की मूरतें रेखाचित्र pdf

झट तज दें वैमनस्यता को (कविता)

झट हम वैमनस्यता त्यागें,नवयुग का करलें निर्माण।पुरश्चरण को सदा गहें हम,तब होगा सबका कल्याण। नैतिक,सांस्कृतिक उत्थान तब होगा,जब विकृतियों को तज देंगे।सद्भाव की ज्योति जला कर,उजियारा घर-घर भर देंगे। प्राणस्वरूप,…