परम तेजस्वी प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व तथा इसरो के महान् वैज्ञानिकों के अथक परिश्रम से हमारे देश को चन्द्रलोक पर विजय पताका फहराने में जो सफ़लता मिली है, उसके लिए चन्द्रयान, प्रधानमंत्री , इसरो के समस्त वैज्ञानिकों तथा सभी भारतवासियों को अनंत मंगलमय शुभ कामनाओं के साथ हार्दिक बधाई।

चन्द्रयान -3 ने चन्द्रलोक पर,
जाकर अलख जगाया है।
लिखकर नव इतिहास,
तिरंगा को डटकर फहराया है।

भारत की उन प्रतिभाओं का,
अभिनन्दन शत् बार है।
जिनके अथक परिश्रम ने ,
हम सबका मान बढा़या है।।

चंद्रयान-3 सामान्य यान नहीं,
भारत की आन, बान, शान है।
आज, सीना तान हम कह सकते हैं,
वास्तव में, हमारा भारत महान है।

सफलतापूर्वक सफ़र यह करके,
पूरे विश्व पर तन है गया।
पूरे भारत में एक साथ,
जन गण मन अब मन है गया।

चांँद को छूना सहज हुआ है,
यान बड़ा ही क़रीब है।
हमको ऐसा गौरव मिल गया,
कितना बढ़िया नसीब है।

चांँद पर अब यह खोज करेगा,
इसरो ने इसे तैयार किया ।
इसके पूर्व भी दो किया था,
पर ना पूरा शुभ परिणाम दिया।

मिशन चंद्रयान 2 की कड़ी अगली,
जो ना पहले पूर्ण हुआ था।
हर भारतीय का शुभ सपना,
पल भर में ही चूर्ण हुआ था।

वह सपना जो कल टूटा था,
देखो आज साकार हुआ।
इसके पूरा होने से,
खुश भारत परिवार हुआ।

नया कीर्तिमान रचने खा़तिर,
भारत था तैयार खड़ा।
14 -07-2023शुक्र को लांच हुआ था,
मार्ग में ना कोई व्यवधान पड़ा।

घड़ी की टिक- टिक सूई जैसे,
पल-पल आगे बढ़ती थी।
तस हर भारतवासी की धड़कन,
पल- पल समाचार को पढ़ती थी।

शुभ समाचार के मिलते ही,
भारत में है उल्लास जगा।
विश्व फलक पर छा गया भारत,
अखिल विश्व को,क्षण यह खास लगा।

उम्मीद भरी हम सबकी नज़रें,
यान को अपलक निहार रही थीं।
हे ईश्वर! मिशन पूरा हो जाए,
करके प्रभु को पुकार रही थीं।

प्रभु ने हम सबकी साथ सुन लिया,
सफलतापूर्वक यान लैंड किया।
हिंदू, मुस्लिम, सिख नहीं,
संग मिलकर सबका हैंड किया।

सामान्य सफलता नहीं है बंधु,
चौथी महाशक्ति बना है भारत।
गौरवपूर्ण क्षण का साक्षी बनना,
हर भारतवासी का था चाहत।

सब की चाहत पूर्ण हुई है,
सब ही इसके साक्षी हैं।
धर्म- विज्ञान का देश है भारत,
वैज्ञानिक विद्यार्थी हैं।

दिवस अर्धशताब्दी के लगभग,
यान सफ़र में लगा दिया।
इस 40 दिन में यान ने,
हम सब के भाग्य को जगा दिया।

तेईस आठ दो हजार तेईस,
रच दिया है स्वर्णिम इतिहास।
जिसको देख कर झूम रहा है,
धरती ,अंबर और आकाश।

चंदा के सतह पर चंद्रयान तीन ,
भेजना सरल था काम नहीं।
जिसको भारतीय कर दिखलाए,
श्रम, इस बार हुआ नाकाम नहीं।

भारत में जो कर दिखलाया,
ना यह सबके बस है।
यह स्वर्णिम इतिहास है बंधु,
यह तो उज्जवल यश है।

चंद्रयान-3 सफल लैंडिंग कर,
दुनिया में भारत का नाम किया रौशन।
सपेरे का देश कभी जो था,
आज बना वह विश्व आभूषण।

विज्ञान का तुम उत्थान करो,
मानव के कल्याण के लिए।
अनगिनत बधाई तुमको नायक,
इस गौरवशाली अभियान के लिए।

इसरो वैज्ञानिक तुम्हें बधाई,
धन्य हो तुम भारत के लाल।
मेधा तुम्हारी और प्रखर हो,
कृपा करें सदा महाकाल।

साधना शाही, वाराणसी

By Sadhana Shahi

A teacher by profession and a hindi poet by heart! Passionate about teaching and expressing through pen and words.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *